Payper24

अमन गुप्ता (बोट) की पूरी जीवन कहानी | Aman Gupta (boat) life story in hindi

Aman Gupta (boat) life story in hindi

अमन गुप्ता [नेट वर्थ ₹700 करोड़]

भारतीय उद्योगपति

अमन गुप्ता एक भारतीय उद्योगपति, बोट कंपनी के सह-संस्थापक और सीएमओ भी हैं। बोट कंपनी शुरू करने से पहले उन्होंने सिटी फाइनेंसियल, केपीएमजी और हरमन इंटरनेशनल (जेबीएल) जैसी विभिन्न कम्पनियों में भी काम किया है। 

नाम : अमन गुप्ता
वैवाहिक स्थिति : विवाहित
पत्नी का नाम : प्रिया डागर
बच्चे : मिया गुप्ता, अदा गुप्ता
माता – पिता : ज्योति कोचर गुप्ता, नीरज गुप्ता
जन्म तिथि : 16 अगस्त 1982
जन्म स्थान : दिल्ली (भारत)
स्कूल : दिल्ली पब्लिक स्कूल
कॉलेज / विश्वविद्यालय : द इंस्टीट्यूशन ऑफ चार्टेड आकउंटैंट्स ऑफ इंडिया, इंडियन स्कूल ऑफ बिज़नेस इन फाइनेंस एंड स्ट्रैटेजी
व्यवसाय : उद्यमी, बिज़नेसमैन
मासिक आय : 3.3 करोड़ +
पुरस्कार : बिजनेसमैन यंग इंटरप्रेन्योर अवार्ड (2019), सुपर 30 सीएमो (2020), इंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर अवार्ड (2020), 40 अंडर 40 लिस्ट ऑफ बिज़नेसवर्ल्ड (2020), लोकमैट मोस्ट स्टाइलिश इंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर अवार्ड (2021)

अमन गुप्ता की जीवनी | Aman Gupta life story

अमन गुप्ता का जन्म 4 मई 1982 को दिल्ली में हुआ था। अमन के पिता पेशे से सीए और बिज़नेसमैन भी हैं और उनकी मां गृहिणी हैं। अमन के पूरे परिवार में सभी या तो जॉब करते थे, या सर्विस, या फिर प्रोफेशनल्स थे। कोई भी बिज़नेस नहीं करता था।

जब अमन बड़े हो रहे थे तो अमन को थ्री इडियट्स की बात याद आती है। वो बोलते है कि जैसे थ्री इडियट्स फिल्म में कैसे हर कोई डॉक्टर या फिर इंजीनियर बनने की जद्दोजहद में लगा रहता है। तो अमन के साथ भी यही सब हो रहा था अमन के पिता भी उन्हें सीए बनाना चाहते थे।

क्यूंकि अमन के घर में सब सीए ही थे। तो अमन को उस वक़्त उतनी समझ नहीं थी, उन्होंने सोचा उनके पिता जी ने सोचा है तो सीए अच्छा ही होता होगा कर लेते है, लेकिन अमन के दिमाग में बचपन से ही बिज़नेस करने का कीड़ा था। पर घर वालो की ख़ुशी के लिए वो, वो सब करते गए जिसमे उनके परिवार वाले खुश रहे।

अमन गुप्ता (बोट) की पूरी जीवन कहानी | Aman Gupta (boat) life story in hindi
Source : twitter.com

अमन गुप्ता शिक्षा | Aman Gupta education

अमन गुप्ता ने अपनी स्कूली शिक्षा आर के पुरम, दिल्ली के दिल्ली पब्लिक स्कूल से की और अपनी ग्रेजुएशन दिल्ली विश्वविधालय में बैचलर ऑफ कॉमर्स (होनर्स) में की। उसके बाद द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टेड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया से एकाउंटिंग एंड फाइनेंसिंग की पढ़ाई की। फिर नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी – केल्लॉग स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए, जेनरल मैनेजमेंट में केल्लॉग में एक्सचेंज स्टूडेंट के रूप में। 

अमन ने बीच में ही अपनी ये पढाई छोड़ दी। फिर भारत वापस आने के बाद इंडियन स्कूल ऑफ बिज़नेस से एमबीए में फाइनेंस एंड स्ट्रेटेजी की पढ़ाई की लेकिन वो भी उन्होंने बीच में छोड़ दी क्यूंकि अमन को आगे जाकर बिज़नेस ही करना था।

अमन गुप्ता करियर | Aman Gupta career

जब अमन सीए कर रहे थे तो बीच में उन्हें बहुत बोरिंग लगने लगा। अमन को लगा ये कि मैं ये क्या कर रहा हूँ सीए में ये सब क्या फाइनेंस और नंबर्स ये सब क्या बकवास चल रहा है मेरी लाइफ में, मुझे इसमें किक नहीं मिल रही है। अमन ने सोचा कि अब बीच में तो सीए छोड़ नहीं सकते अब करी ही है तो पूरा खत्म करते है फिर सोचते है कि आगे क्या करना है। 

Aman-Gupta-Biography-career
Source : Google.com

तो अमन ने फटाफट अपनी डिग्री पूरी की और वो डिग्री अपने पापा के हाथों पे रख दी और उनको बोला कि पापा येलो डिग्री अब मुझे जो करना है वो मैं करूंगा। फिर अमन ने दो साल के लिए एक जगह नौकरी की ताकि वो कुछ सीख सके लेकिन अमन वहां भी बोर हो गए और उन्होंने नौकरी छोड़ दी।

फिर अमन ने सोचा कि क्यों न मैं खुद का बिज़नेस शुरू करूँ तो अमन और उनके पिता ने ये मिलकर डिसाइड किया कि एक बिज़नेस शुरू करते है। क्यूंकि बिज़नेस के लिए उनके पिता के पास एक्सपीरियंस था और अमन के पास बिज़नेस के लिए अग्रेसन यानि जूनून था।

अमन की ये पहली कंपनी थी और अमन की इस कंपनी ने सेल उम्मीद से भी ज्यादा की करी। इस कंपनी से अमन को सेल कैसे करते है वो बारीकी समझ आयी। यह उनकी बिज़नेस लाइन की पहली लर्निंग थी।

अमन गुप्ता (बोट) की पूरी जीवन कहानी | Aman Gupta (boat) life story in hindi
Source : Google.com

अमन के पिता ने उन्हें इसी बात पर एक सीख दी कि तभी अमन एक क्लाइंट से कॉल पर अपने प्रोडक्ट बेचने की बात कर रहे थे। जिससे वो बात कर रहे थे वो अमन को कभी एक घंटे बाद तो कभी दो घंटे बाद कॉल बैक करने को बोलते। अमन करेक्ट टाइम का अलार्म लगाकर बार बार उनको कॉल करते और हर बार क्लाइंट का एक ही जवाब कि बाद में कॉल करना, इस बार अमन झल्ला गए और उन्होंने फ़ोन के स्पीकर को पटकते हुए कहा कि तेरा बाप का नौकर हूँ क्या। 

तभी तुरंत अमन के पिता ने उन्हें कहा कि बेटा वेलकम टू सेल्स, ईगो को साइड में रखकर ही बिज़नेस किया जाता है। कस्टमर भगवान् होता है, और भगवान् को ईगो दिखाओगे, ईगो रखो अपनी जेब में। बिज़नेस और खास्कर कि सेल्स ऐसे ही नहीं हो जाती।

तब अमन को समझ आया और फिर उन्होंने अपने पिता जी के साथ वो बिज़नेस करीबन चार से पांच साल तक किया। इस कंपनी में अमन और उनके पिता बहार की एक कंपनी का माल लाकर यहाँ बेचते थे। लेकिन ब्रांड ने डिसाइड किया कि इंडिया में बिज़नेस अच्छा है चलो एक ऑफिस हम इंडिया में भी खोल लेते है।

अमन ये सब करते – करते एक बार फिर बोर हो गए उनको अभी भी लग रहा था कि उनकी लाइफ से कुछ मिसिंग है। तो अमन ने सोचा की कुछ अपना करते है, तब तक अमन की शादी हो चुकी थी। अमन की पत्नी ने अमन से कहा कि बिज़नेस के लिए तू एक बार एमबीए क्यों नहीं कर लेता।

अमन गुप्ता (बोट) की पूरी जीवन कहानी | Aman Gupta (boat) life story in hindi
Source : Google.com

अमन ने कहा चलो कि मेरे पास अभी टाइम है तो अमन ने लोन लेकर एमबीए किया, पर छह महीने में ही अमन बहुत बोर हो गए। अमन यहाँ तक अब ये सोचने लगे कि मैं चाहता क्या हूँ अपनी लाइफ में मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा है कि मैं क्या करूँ। अमन को करना तो बिज़नेस ही था।

ये सब भाग दौड़ करते – करते अमन की उम्र भी 35 की हो चुकी थी और अब उनका खुद का परिवार भी था। अमन की वाइफ ने फिर अमन को समझाया कि मैं तुझे दो साल देती हूँ इसमें अगर तू कुछ कर पाया तो ठीक, नहीं तो फिर जो मैं बोलूंगी तुझे वो ही करना पड़ेगा। क्यूंकि उस वक़्त तक अमन के सभी दोस्त, रिश्तेदारों के बच्चे सब कहीं नहीं कहीं सेट थे अपनी लाइफ में।

लेकिन अमन के लिया एक बात अच्छी थी कि उस वक़्त भारत रेवोलुशन पर था यानि भारत में स्टार्टअप आ चूका था। अमन जब खुद का म्यूजिक ब्रांड बोट भारत में लाने वाले थे तो उससे पहले ही भारत में 200 से भी ऊपर ब्रांड इस केटेगरी में पहले से ही थे और कई चाइनीज़ कंपनियां भी सालों से भारत की मार्किट में स्थापित थी।

अमन की लाइफ में जैसे रिजेक्शन उनकी ज़िन्दगी का एक हिस्सा बन चुकी थी। क्यूंकि कोई भी कंपनी उनसे जुड़ने के लिए तैयार नहीं थी। हर कोई उनको यही ताना मारता कि ऐसी कई कंपनियां रात को आयी और सुबह चली भी गयी तुम क्या ऐसा अलग कर लोगे। पर अमन ने हार नहीं मानी क्यूंकि ऐसी कई चीज़ वो अपनी लाइफ में पहले ही झेल चुके थे।

अमन गुप्ता (बोट) की पूरी जीवन कहानी | Aman Gupta (boat) life story in hindi
Source : Google.com

अमन अपनी मेहनत से इतने सफल हो गए कि उनके कुछ दोस्त और कई अन्य लोग उनसे फ़ोन करके कहते कि भाई स्टार्टअप करना है, स्टार्टअप करने के लिए कोई आईडिया दे। अमन ने सबको समझाया और पूरे भारत को समझाया कि भाई बिज़नेस ऐसे नहीं करते है।

बिज़नेस या स्टार्टअप करने के लिए पहले मार्किट को समझना पड़ता है, कस्टमर क्या चाहता है, और हाँ रिजेक्शन और फेलियर से दोस्ती करनी होगी जोकि आनी ही आनी है, आज नहीं तो कल फेल तो आप होंगे ही। मैं भी हुआ हूँ और आज भी होता हूँ तो इन सब के लिए आपको पहले तैयार होना पड़ेगा। बाद में आप स्टार्टअप के लिए खुद व खुद तैयार हो जायेंगे।

बोट कंपनी को अलग बनाने के लिए अमन ने भी पहले कस्टमर का माइंड और उनकी जरूरतों को समझा और अपनी मेहनत और अपने दोस्त समीर मेहता की पार्टनरशिप के साथ मिलकर बोट को आज भारत का सबसे बड़ा म्यूजिक एप्लायंसेज का भारतीय ब्रांड बनाकर खड़ा कर दिया।

शार्क टैंक अमेरिका का एक शो अभी हाल ही में 2021 के दिसंबर से जनवरी 2022 तक भारत में सोनी चैनल पर प्रकशित हुआ था शार्क टैंक इंडिया नाम से। भारत में आते ही इस शो ने बहुत वाहवाही लूटी और इसी शो के सात जजो में से एक अमन को भी शो का जज यानि इन्वेस्टर एंटरप्रेन्योर के रूप में लिया गया था। इस शो में भारत के कोने – कोने से लोग अपने बिज़नेस आइडियाज को शार्क टैंक में जजो के सामने पेश करते थे। जिसका आईडिया सबसे बेहतर और भारतीय जनता के हित के लिया होता उसमे जज अपना पैसा इन्वेस्ट करते थे। 

shark tank india season 1 judge aman gupta
Source : Sony Entertainment Channel

अमन गुप्ता के बारे में रोचक तथ्य | Interesting facts about Aman Gupta

10 ऐसे कुछ अज्ञात और रोचक तथ्य अमन गुप्ता के बारे में जो शायद आप नहीं जानते होंगे। आइए आपको कुछ ऐसे ही तथ्य बताते है : 

  1. बोट भारत में नंबर एक हेडसेट उपकरण मॉडल में से एक है, जिसने 27.3% की बाजार हिस्सेदारी हासिल की है। अमन गुप्ता की कंपनी वित्तीय वर्ष 2020 में महामारी के प्रकोप की परवाह किए बिना 500 करोड़ रुपये की आय अर्जित करने में सफल रही।
  2. जब अमन ने अपना सीए पूरा किया था उस वक़्त वो देश के सबसे कम उम्र के सीए करने वाले विद्यार्थी थे।
  3. शार्क टैंक इंडिया में अमन ने बताया था कि जब उन्होंने पहली बार मार्किट में एक लड़के को गले में अपनी कंपनी बोट के हैडफ़ोन डाले देखा था, तो ये देख अमन बहुत रोये थे।
  4. 2012 से 2013 तक, अमन ने भारत में एक बिक्री प्रबंधक के रूप में हरमन इंटरनेशनल के लिए काम किया और कंपनी के साथ भागीदारी भी की।
  5. 2003 से 2005 तक, उन्होंने सिटी बैंक के सहायक निदेशक का पद संभाला। बोट के सह-संस्थापक होने से पहले, उन्होंने एडवांस्ड टेलीमीडिया प्राइवेट लिमिटेड की सह-स्थापना की और 2005 और 2010 के बीच उसके सीईओ थे।
  6. अमन ने केपीएमजी कंपनी के साथ कार्यकारी सलाहकार के रूप में भी काम किया है।
  7. अमन इमेजिन मार्केटिंग इंडिया के संस्थापक भागीदार भी रहे चुके हैं। उन्होंने इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के डीटूसी बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में कार्य भी किया है।
  8. बोट का पहला उत्पाद एक न टूटने वाली एप्पल की चार्जिंग केबल और चार्जर था। एप्पल की केबल चार्जिंग एंड के पास से टूट जाती थी और खरीदारों को इस पर टेपिंग करनी पड़ती थी। बोट ने 10,000 बेंड्स के हार्ड कवरिंग वाली एक केबल लॉन्च की और उन्होंने इसकी कीमत 1,500 रुपये रखी। जोकि एप्पल की केबल से कई गुना सस्ती भी थी।
  9. 2017 में बोट का रेवेन्यू 27 करोड़ रुपये तक पहुंच गया और 2018 में 108 करोड़ को पार कर गया। उन्होंने प्रति मिनट 6000 से अधिक के उत्पाद बेचे और प्रति मिनट चार उत्पाद बेचे।
  10. बोट के पास वर्तमान में 5,000 खुदरा स्टोर हैं, जिन्हें 20 वितरकों का समर्थन प्राप्त है। एक दिन में 10,000 से अधिक इकाइयों की बिक्री, और प्रति वर्ष चार मिलियन इकाइयों की बिक्री। बोट अब तक 20 मिलियन से भी ज्यादा भारतीयों तक पहुंच चुके हैं। इसकी लगभग 80 प्रतिशत बिक्री अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसे ई-कामर्स चैनलों से हो रही है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Frequently asked questions

मशहूर बिजनेसमैन अमन गुप्ता बोट कंपनी के फाउंडर और मालिक है जिनका जन्म देश की राजधानी नई दिल्ली में 4 मार्च 1982 को हुआ था। वे एक बड़े बिजनेसमैन के रूप में अपना नाम बना रहे हैं। एक मध्यम हिंदू परिवार में जन्मे अमन का बचपन से ही एक इंटरप्रेन्योर बनना चाहते थे।

बोट कंपनी के मालिक या संस्थापक का नाम समीर मेहता और अमन गुप्ता हैं। जबकि इस कंपनी के सीईओ विवेक गम्भीर हैं।

बोट एक भारतीय कंपनी हैं जिसका मुख्यालय नई दिल्ली, भारत में स्थित हैं। इस कंपनी की स्थापना 1 नवम्बर 2013 में इमैजिन मार्केटिंग सर्विसेज के नाम से एक प्राइवेट कंपनी के रूप में की गई थी।
 

अमन गुप्ता की पत्नी का नाम प्रिया डागर है। अमन ने प्रिया से 2008 में शादी की थी। प्रिया से अमन की दो बेटियां मिया और अदा है।

हाल ही में, बोट के सह-संस्थापक और मुख्य विपणन अधिकारी अमन गुप्ता और उनका परिवार लेंसकार्ट के सह-संस्थापक और सीईओ पीयूष बंसल और उनके परिवार के साथ राजस्थान के रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान में गए। पीयूष ने शार्क टैंक इंडिया के सह-न्यायाधीश अमन गुप्ता के साथ अपने जन्मदिन समारोह के हिस्से के रूप में साइट का दौरा किया।

अमन ने अपनी पत्नी प्रिया डागर से 2008 में शादी की है। मिया और अदा गुप्ता उनकी दो बेटियां हैं।

Leave a Comment