Payper24

घनश्याम नायक (नट्टू काका) की पूरी जीवन कहानी | Ghanashyam Nayak (Nattu Kaka) life story in hindi

घनश्याम नायक (नट्टू काका) की पूरी जीवन कहानी | Ghanashyam Nayak (Nattu Kaka) life story in hindi

घनश्याम नायक (नट्टू काका)

भारतीय अभिनेता

घनश्याम नायक एक भारतीय अभिनेता, और टेलीविजन अभिनेता थे। वह कई टेली सीरियल्स के साथ-साथ फिल्मों में भी नजर आ चुके हैं। उन्हें तारक मेहता का उल्टा चश्मा में नटवरलाल प्रभाशंकर उंधईवाला उर्फ नट्टू काका की भूमिका के लिए जाना जाता था।

पूरा नाम : घनश्याम नायक
प्रसिद्ध नाम : नट्टू काका
वैवाहिक स्थिति : विवाहित
पत्नी का नाम : निर्मलादेवी नायक
बच्चे : विकास नायक, भावना नायक, तेजल नायक
पिता : प्रभाकर नायक
जन्म तिथि : 3 जनवरी 1944
जन्म स्थान : उंधई, गुजरात (भारत)
मृत्यु तिथि : 3 अक्टूबर  2021
मृत्यु स्थान : मुंबई, महाराष्ट्र (भारत)
स्कूल : सेठ एन एल हाई स्कूल
पुरस्कार : दादासाहेब फाल्के अवार्ड (2014)

घनश्याम नायक की जीवनी | Ghanshyam Nayak life story

घनश्याम नायक का जन्म 3 अक्टूबर 1944 को उंधई, गुजरात के एक छोटे से गांव में हुआ था और बहुत कम उम्र में, वह अपने फिल्मी करियर को आगे बढ़ाने के लिए मुंबई आ गए। घनश्याम नायक अपने परिवार के साथ मुंबई के मलाड इलाके में रहते थे। घनश्याम नायक ने निर्मलादेवी से शादी की और उनसे उनके तीन बच्चे हैं एक बड़ा बेटा विकास नायक और दो छोटी बेटियाँ, भावना नायक और तेजल नायक

उनकी बेटी तेजल नायक एक प्राइवेट स्कूल की टीचर है और उनका बेटा विकास नायक नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में मैनेजर है। विकास ब्लॉगिंग भी करते है। 

घनश्याम नायक (नट्टू काका) की पूरी जीवन कहानी | Ghanashyam Nayak (Nattu Kaka) life story in hindi
Source : twitter.com

घनश्याम नायक अपने काम यानि एक्टिंग के प्रति बहुत ही अनुशासित और पागल थे इसलिए वो कितनी भी बीमारी में हो लेकिन वो तारक मेहता के सेट पर शूट के लिए जाते ही जाते थे, इस कदर वो अपने काम से लगाव रखते थे। ऐसा एक इंटरव्यू में खुद उनके शो के प्रोड्यूसर आसित मोदी ने कहा था। 

ईटाइम्स से बात करते हुए, विकास नायक घनश्याम नायक के बेटे ने यह उल्लेख किया कि कैंसर का इलाज कठिन था क्योंकि यह कैंसर का एक दुर्लभ रूप होने के कारण दवा की कोई निर्धारित लाइन नहीं थी। भले ही कीमोथेरेपी ने कुछ समय तक काम किया और ऐसा लग रहा था कि इसके परिणाम दिखाई दे रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और पापा का स्वास्थ्य बिगड़ता रहा और एक साल के भीतर उनके पूरे शरीर में कैंसर फैल गया। 

घनश्याम नायक उर्फ नट्टू काका का 3 अक्टूबर 2021 को घातक बीमारी से जूझने के बाद निधन हो गया। घनश्याम नायक का अंतिम संस्कार अगले दिन, 4 अक्टूबर 2021 को किया गया। 

उनकी अंतिम इच्छा उनके बेटे ने पूरी की, जिन्होंने एक पेशेवर मेकअप कलाकार से अपने पिता का श्रृंगार करवाया था, क्योंकि घनश्याम नायक की ये अंतिम इच्छा थी। एक दैनिक समाचार के साथ अपने नवीनतम साक्षात्कार में, नायक के बेटे, विकास ने यह बताया कि कैसे परिवार ने उनका समर्थन किया और कठिन दौर में उनके साथ रहे।

घनश्याम नायक शिक्षा | Ghanshyam Nayak education

घनश्याम नायक ने मुंबई के एक साधारण स्कूल सेठ एन एल हाई स्कूल से सिर्फ दसवीं तक ही पढ़े हुए है क्यूंकि उनकी माली हालत बहुत अच्छी नहीं थी, उनको हर वक़्त एक्टिंग ही एक्टिंग दिखाई देती थी, उनके एक जानने वाले ने उनको पास के थिएटर में दाखिला दिलवा दिया था, तो थिएटर वाले उनसे पैसे नहीं लिया करते थे और उनकी वो ही शिक्षा उन्होंने सबसे ज्यादा की यानि थिएटर की पढाई। 

घनश्याम नायक करियर | Ghanshyam Nayak career

घनश्याम नायक ने भी कई संघर्ष के दिन देखे हैं और आश्चर्यजनक बात यह है कि इतने साल संघर्ष के बावजूद वे बहुत ही सौम्य और शांत स्वाभाव वाले व्यक्ति थे। जी हाँ उन्होंने तारक मेहता शो से पहले कई साल अपनी ज़िन्दगी के संघर्ष में निकाल दिए, इस शो से पहले न जाने कितनी गुजराती फिल्मों में और उसके बाद कई साल तक बॉलीवुड की फिल्मों में भी कई अहम भूमिकाएं निभाई लेकिन वो दर्शाकों को अपनी एक्टिंग का लोहा नहीं मनवा पाए। 
 
उन्हें 63 साल की उम्र में ‘तारक मेहता’ शो मिला। इससे पहले उन्होंने बहुत स्ट्रग्ल किया था। उन्होंने बताया था कि पुराने दौर में वह 24 घंटे काम करते थे, इसके बाद भी उन्हें केवल 3 रुपये ही मिलते थे। इन पैसों से भी उनके परिवार का गुजारा बड़ी ही मुश्किल में चलता था।
 
घनश्याम नायक ने इंडस्ट्री में मुकाम हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की। अपनी आर्थिक कठिनाइयों के बारे में बात करते हुए घनश्याम नायक ने बताया था कि उस दौरान उन्हें पैसों की इतनी किल्लत हो गई थी। अपने घर का किराया और बच्चों की फीस तक भी देने में वह असमर्थ थे। इसके कारण वह अपने पड़ोसियों से उधार मांग कर किराया चुकाया करते थे।
 

घनश्याम नायक लगभग 100 गुजराती और हिंदी फ़िल्में और लगभग 350 हिंदी टेलीविजन श्रृंखलाओं में दिखाई दिए थे। उन्होंने 100 से अधिक गुजराती नाटकों में भी अभिनय किया। उन्होंने आशा भोंसले और महेंद्र कपूर जैसे उस्तादों के साथ 12 से अधिक गुजराती फिल्मों में प्लेबैक दिया और यही नहीं उन्होंने 350 से अधिक गुजराती फिल्मों को भी अपनी आवाज़ में डब किया।

फिर उनको आसित मोदी द्वारा सोनी सब टीवी पर प्रकाशित तारक मेहता का उल्टा चस्मा में नट्टू काका का रोल दिया गया और बस यही से उनका कारवां शुरू हो गया। घनश्याम नायक ने बतौर अभिनेता इस शो में एक दशक से ज्यादा काम किया और उनकी एक्टिंग का जादू पूरी दुनिया में फ़ैल गया। नट्टू काका उर्फ़ घनश्याम नायक इस शो की जान थे इसमें कोई शक नहीं। यही नहीं उनके इस शो के सेट पर कार्य करने वाले सभी कलाकार उनसे बहुत प्रभावित थे क्यूंकि उनको कैंसर जैसी घातक बीमारी हो जाने के वाबजूद भी उन्होंने कई दिन तक शो में आकर काम किया। 
घनश्याम नायक (नट्टू काका) की पूरी जीवन कहानी | Ghanashyam Nayak (Nattu Kaka) life story in hindi
Source : Google.com(At right Ghanshyam Nayak aka Nattu kaka)

टेलीविजन

शोरोल
खिचड़ी (हिंदी)सेल्समैन के रूप में
मणिमटकू (गुजराती)मटकालाल (लीड हीरो)
फिलिप्स टॉप 10मख्खन
एक महल हो सपनों कामोहन
दिल मिल गएरोगी के रूप में
सारथीघनू काका
साराभाई वर्सेज साराभाईविट्ठल काका
तारक मेहता का उल्टा चश्मानटवरलाल प्रभाशंकर उंधई वाला उर्फ नट्टू काका
छुट्टा छेड़ा कैमियो

फिल्में

वर्षफिल्मरोल
1960मासूमबाल कलाकार
1974बालक ध्रुवआश्रम शिष्य
1992बेटाहवलदार
1993तिरंगाराम लखन डॉ गुप्ता के सेवक
1993आंखेंग्रामीण
1993आशिक आवारापुलिस कांस्टेबल
1994लाडलाचौकीदार
1994क्रांतिवीरकल्याणजी भाई
1994ईना मीना डीकाभिखारी
1995आंदोलनप्रोफेसर
1995बरसातबस्ती मैन
1996माफियाहवलदार
1996चाहतअस्पताल रोगी
1996कृष्णाअमर प्रभाकर का आदमी
1996घातकहॉस्पिटल रिसेप्शनिस्ट
1997इश्कइंस्पेक्टर
1998शाम घनशामहीरोइन (प्रिया गिल) के पिता
1998चाइना गेटप्रबंधक
1998बारूदज्ञात नहीं
1999हम दिल दे चुके सनमविठ्ठल काका
1999तेरा जादू चल गयाबनिया
2000शिकारीघनश्याम (रसोइया)
2000चेहरा मौत काज्ञात नहीं
2001लज्जाटीकू (प्रॉम्प्टर)
2001तेरे नामचंदू चायवाला
2003खाकीदर्जी
2004पुलिस फोर्स : एन इनसाइड स्टोरीपब्लिक स्पेक्टेटर
2004पंगा ना लोनाटकवाला
2007वीर-ज़ारानॉमिनेटेड
2007अंडरट्रायलनट्टू जमुदिया
2009ढूंढते रह जाओगेपंडितजी
2010हेलो! हम ललन बोल रहे हैंसर्वेंट
2016एक्को बादशाह रानीज्ञात नहीं
2017लव नी भवईचाय विक्रेता
2019विग बॉसज्ञात नहीं
घनश्याम नायक (नट्टू काका) की पूरी जीवन कहानी | Ghanashyam Nayak (Nattu Kaka) life story in hindi
Source : twitter.com
घनश्याम नायक के बारे में रोचक तथ्य | Interesting facts about Ghanshyam Nayak

10 ऐसे कुछ अज्ञात और रोचक तथ्य अमिताभ बच्चन के बारे में जो शायद आप नहीं जानते होंगे। आइए आपको कुछ ऐसे ही तथ्य बताते है : 

  1. घनश्याम नायक लगभग 100 गुजराती और हिंदी फिल्मों में काम कर चुके है। 
  2. घनश्याम नायक लगभग 350 से ज्यादा हिंदी टेलीविजन श्रृंखलाओं में दिखाई दिए थे।
  3. उन्होंने 100 से अधिक गुजराती नाटकों में भी अभिनय किया।
  4. उन्होंने आशा भोंसले और महेंद्र कपूर जैसे उस्तादों के साथ 12 से अधिक गुजराती फिल्मों में प्लेबैक दिया
  5. घनश्याम नायक उर्फ़ नत्तू काका ने 350 से अधिक गुजराती फिल्मों को भी अपनी आवाज़ में डब किया। 
  6. अपने घर का किराया और बच्चों की फीस तक भी देने में वह असमर्थ थे। इसके कारण वह अपने पड़ोसियों से उधार मांग कर किराया चुकाया करते थे।
  7. उन्होंने बताया था कि पुराने दौर में वह 24 घंटे काम करते थे
  8. शरुआती दौर में उन्हें केवल 3 रुपये ही मिलते थे। इन पैसों से भी उनके परिवार का गुजारा बड़ी ही मुश्किल में चलता था।
  9. जब घनश्याम नायक को ‘तारक मेहता’ शो मिला तब उनकी उम्र 63 वर्ष की हो चुकी थी। 
  10. घनश्याम नायक ने मुंबई के एक साधारण स्कूल सेठ एन एल हाई स्कूल से सिर्फ दसवीं तक ही पढ़े हुए है

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | Frequently asked questions

77 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया है 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के दिग्गज एक्टर नट्टू काका यानी घनश्याम नायक अब इस दुनिया में नहीं रहे घनश्याम नायक पिछले काफी महीने से कैंसर से पीड़ित थे और अब उनका देहांत हो चुका है

77 करोड़ रुपए की संपत्ति के मालिक थे नटू काका, 1960 में नट्टू काका ने एक सीरियल में काम किया था। जिसके लिए उन्हें मात्र 90 रुपए मिले थे।

घनश्याम नायक ने 350 से ज्यादा गुजराती फिल्मों की डबिंग की है। उन्होंने हिंदी फिल्म एक और संग्राम और भोजपुरी फिल्म बैरी सावन में दिग्गज अभिनेता कन्हैयालाल के लिए अपनी आवाज दी है। घनश्याम नायक को असली पहचान तारक मेहता का उल्टा चस्मा में नट्टू काका किरदार निभाने पर मिली थी।
 

नट्टू काका की मौत 3 अक्टूबर 2021 को हुई

नट्टू काका उर्फ़ घनश्याम नायक का जन्म अक्टूबर 1944 को उंधई, गुजरात के एक छोटे से गांव में हुआ था और बहुत कम उम्र में, वह अपने फिल्मी करियर को आगे बढ़ाने के लिए मुंबई आ गए।

नट्टू काका के 3 बच्चे है एक बेटा और दो बेटी।

Lets motivate & inspire others

Leave a Comment